Public Provident Fund Explained in Hindi | PPF Full Details in Hindi

Contents

PPF (Public Provident Fund) या पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम सरकार द्वारा दी जाने वाली एक बहुत ही लोकप्रिय रिटायरमेंट प्लानिंग स्कीम है। पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम में निवेश करने के बहुत से फायदे है. इन सब फायदे और नुकशान के बारे में आप आगे जनोंगे.

Public Provident Fund सबसे पोपुलर Long Term Investment स्कीम में से एक है और हर पोपुलर चीज अच्छी हो, ऐसा जरुरी नही है. 

तो क्यूँ है यह स्कीम इतनी पोपुलर और क्या है इस स्कीम की अच्छी बाते और कौन सी अच्छी बाते नही है, इन सब के बारे में जानेंगे  .

तो आज मैं आपको बताऊंगा  Public Provident fund or PPF से जुडी हर जानकारी को. ताकि आप तक इस स्कीम की सही-सही जानकारी मिले और आपको यह मालूम हो जाए की इस स्कीम में आपको  निवेश करना चाहिए या नही ?

मैं आपके इन सवालों का जवाब देने वाला हूँ  इस पोस्ट मे, जैसे की  –

  1.  Public Provident fund or PPF स्कीम क्या है ?
  2.  PPF में अकाउंट कैसे बनाए ?
  3. कौन – कौन PPF में अकाउंट खोल सकता है?
  4. इस स्कीम में कितना ब्याज (Interest rate)  मिलता है?
  5. PPF में निवेश करना क्यों चाहिए या फायदे क्या – क्या है ?
  6. पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम से अपना पैसा कैसे निकले ? या पैसे निकालने की लिमिट क्या है ?
  7. क्या मैं अपने लिए अलग अलग Banks में PPF अकाउंट खोल सकता हूँ ?
  8. क्या PPF में जॉइंट अकाउंट खोल सकते है ? इत्यादि.

 Public Provident fund या  PPF स्कीम क्या है ?

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड या PPF एक लॉन्ग टर्म इन्वेटमेंट रिटायरमेंट प्लान है. इस स्कीम की देख रेख सरकार करती है. इस स्कीम का लाभ भारत का कोई भी व्यक्ति ले सकता है.

इस स्कीम में FDs की तुलना में अच्छी रिटर्न्स मिलती है क्यूंकि इसमें पैसो को लम्बे समय के लिए निवेश किया जाता है. 

इस स्कीम को  बहुत ही सुरक्षित रिटायरमेंट स्कीम माना जाता है क्यूंकि इसमे निवेश किये गए पैसो को सुरक्षित फंड्स और सरकारी फंड्स में ही निवेश किया जाता है और शेयर्स में भी इस पैसे को इन्वेस्ट नही किया जाता है  जिससे आपके फण्ड में कोई उतार – चढाव देखने को नही मिलता है. 

PPF में कितना ब्याज – दर या रिटर्न्स (Returns) मिलता है?

इस स्कीम का रिटर्न्स हर 3 महीने में सरकार revise (दुबारा विचार करना) करती है. मतलब हर 3  महीने में इसका रेट ऑफ़ इंटरेस्ट बदलता रहता है. अभी के हिसाब से सरकार हर साल 7.1 % रिटर्न्स दे रही है. कुछ महीने पहले 7.9 प्रतिशत रिटर्न्स मिल रहा था. 

सामान्य तौर पर बात करे तो जो देश के प्रमुख बैंकस (जैसे की SBI, HDFC, ICICI, AXIS) के FDs (Fixed Deposits) का जो रिटर्न्स है उससे 1 से 1.25 प्रतिशत ज्यादा रिटर्न्स मिलता है PPF स्कीम में. 

PPF CALCULATOR

जैसे की SBI अभी लगभग 5.8 रिटर्न्स दे रही है अपने FDs पर और वही यह स्कीम 7.1 प्रतिशत रिटर्न्स दे रही है. लेकिन एक बात जरुर याद रखे की हर 3 महीने बाद PPF का रिटर्न्स का प्रतिशत बदलता रहता है.

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड से अपना पैसा कैसे निकले ? या पैसे निकालने की लिमिट / अवधि  क्या है ?

इस स्कीम में 15 साल का लॉक इन (Lock in) होता है. मतलब जो पैसा आप निवेश कर रहे हो वह आपको 15 साल बाद मिलेगा या आप निकाल सकते है. FD जैसा नही की एक साल की FD है तो एक साल बाद निकाल सकते हो. दो साल की FD है तो दो साल बाद मिलेगा लेकिन PPF में 15 साल बाद मिलेगा . लेकिन PPF में कुछ छुट या  Exception मिलता है. 

चलिए वह Exception  क्या – क्या है देखते है –

  • 15 साल की स्कीम है लेकिन आप चाहे तो 5 साल होने के बाद 50 % पैसा निकाल सकते है. 
  • अगर कोई बड़ी इमरजेंसी ( जैसे की किसी को बड़ीजानलेवा  बीमारी हो गयी हो या फिर बच्चों के पढाई के लिए पैसो की जरुरत ) है तब आप अपना अकाउंट बंद कर सकते है, जिसे Premature Closure कहते है. इस केस में आप पूरा पैसा निकाल सकते हो.
  • मान लीजिये अपने 2 साल तक इस  स्कीम में पैसे निवेश किये है और आपको 2 साल बाद पैसो की जरुरत है तब आपको जमा राशी का 25% लोन के रूप में ( जिस बैंक में आपका PPF खाता खोला है वहा से ) मिलेगा. 
  • आपका स्कीम का 15 साल पूरा हो जाए तो तब 5-5  साल कर के और बढ़ा सकते है. और इन 5 साल के बिच आपके पिछले पूंजी को साल में सिर्फ एक बार निकल सकते है. चाहे तो आधा या पूरा भी निकाल सकते है और  5 – 5 साल का Extension (वृद्धि) कितना बार भी कर सकते है.
  • सबसे शानदार बात यह है की PPF को Exempt, Exempt और Exempt  श्रेणी में रखा गया है. मतलब आपके 1.5 लाख रूपये ( जो इस स्कीम में निवेश है ) पर कोई टैक्स देने की जरुरत नही है और PPF में कमाए गए राशी यानि की इंटरेस्ट पर और पूरी मतुरिटी अमाउंट पर कोई टैक्स सरकार नही लेगी .
  • अगर आप पर कोई लीगल केश होता है तब कोर्ट जुर्माना के तौर पर आपके सम्पति को जब्प्त कर सकती है और उसे नीलाम कर के आप से जुर्माना भर सकती है . लेकिन आपके PPF अकाउंट से पैसे नही ले सकती क्यूंकि कोर्ट का यह मानना है यह आपकी नही बल्कि आपके परिवार के भरण पोषण के  लिए जमा की गई जमा पूंजी है. इस चीज को कानूनी प्रतिरक्षा ( लीगल इम्युनिटी) कहते है.

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम (PPF), Fixed Deposits से बढ़िया विकल्प क्यूँ है ?

अब हम जानेंगे की क्यूँ पब्लिक प्रॉविडेंट फंड , FDs से बढ़िया इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है. इसको एक उदहारण से समझाते है.

राम एक सॉफ्टवेर इंजिनियर है जिसकी सालाना आय 10 लाख रुपये है. वह अपने पैसे को इन्वेस्ट करने के बारे में सोच रहा था . इस विषय को लेकर वह अपने दो अलग अलग दोस्तों से मिलता है .

पहले ( श्याम ) दोस्त ने उसे FD में निवेश करने की सलाह दी और दुसरे ( सुन्दर ) दोस्त ने PPF में निवेश की . राम ने दोनों की बातो को मना और दोनों जगहों पर 1.5 लाख साल का निवेश करना शुरू कर दिया.

दोनों निवेशो की अवधि 15 साल की थी. अब 15 साल बाद जब राम को अपने किये हुए इन्वेटमेंट रिटर्न्स मिले तब उसने पाया की जो पैसा उसने FDs में निवेश किये थे उनपर उसे टैक्स देना पड़ा. FDs पर कमाए हुए इंटरेस्ट और मतुरिटी अमाउंट , दोनों पर ही सरकार ने टैक्स लिया.

लेकिन जो पैसा उस ने PPF में निवेश किया था. उस अमाउंट पर कमाए इंटरेस्ट और  मतुरिटी  अमाउंट , दोनों में से किसी पर भी सरकार ने टैक्स नही लिया, उसे FDs की तुलना में अच्छा खासा रिटर्न्स मिला.

इससे यह मालूम पड़ता है की जब आप लम्बे समय के लिए निवेश करना चाहते है तब आपके लिए पब्लिक प्रॉविडेंट फंड एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है.

आशा है की आपको ऊपर के  उदहारण से PPF और FDs में से आपके लिए कौन सा विकल्प बढ़िया है यह समझाने में मदद मिली होगी. इस जानकारी को अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स से  शेयर जरुर करें.

कौन – कौन PPF में अकाउंट खोल सकता है? क्या बच्चो के नाम पर PPF अकाउंट खोल सकते है? क्या इस स्कीम में कोई  Age लिमिट है? जी नही, इस स्कीम में कोई भी ऐज लिमिट  नही है. आप अपने बच्चों के नाम पर अकाउंट खोल सकते है लेकिन उनका अकाउंट उनके पेरेंट्स या ग्रैंड पेरेंट्स ही चला सकते है. बच्चे के 18 साल का हो जाने पर वह खुद से अपना अकाउंट हैंडल कर सकता है .

और एक बात उस अकाउंट ( बच्चे के PPF अकाउंट में ) आप सिर्फ साल का 1.5 लाख रुपया ही जमा कर सकते है, इससे ज्यादा नही. लेकिन 18 साल का होते ही यह लिमिट हट जाती है .

साल में आप कितना पैसा डाल / जमा कर सकते है?

साल में ज्यादा से ज्यादा 1.5 लाख रुपया जमा कर सकते है . आप चाहे तो 1.5 लाख से ज्यादा पैसा भी डाल सकते है लेकिन उस एक्स्ट्रा अमाउंट पर कोइ टैक्स में छुट नही मिलेगा . सिर्फ 1.5 लाख रुपये तक ही टैक्स में छुट मिलेगा उससे ज्यादा पर  नही. 

कम से कम 500 रुपया साल का जमा करना होता है इस स्कीम को एक्टिव रखने के लिए. अगर यह स्कीम एक्टिव नही होगी तो क्या होगा ? मैं 2 साल देने के बाद आगे पैसे नही भरे तब क्या होगा? क्या मेरे 500 – 500 डूब जायेंगे ? जी नही, कोई भी पैसा नही डूबेगा  बल्कि आपको उस जमा राशी पर कोई इंटरेस्ट नही मिलेगा .

आपके 1000 रूपये ही पड़े रहेंगे. 

लेकिन अपने अकाउंट को दुबारा एक्टिव करने के बाकि के रूपये (जितने सालो का पैसा जमा नही किये है वह वाला ) और कुछ रुपये फाइन भर के उसे रिएक्टिव कर सकते है. आगे कोई दिक्कत नही होने वाली है.

क्या मैं अपने लिए अलग अलग Banks में PPF अकाउंट खोल सकता हूँ ?

जी नही.  एक आदमी का केवल एक ही अकाउंट हो सकता है. यदि आपके पास बहुत से बैंक में अकाउन्ट्स होंगे लेकिन आपका केवल एक ही PPF अकाउंट खोल सकते है. 

क्या PPF में जॉइंट अकाउंट खोल सकते है ?

आप बैंक में जॉइंट अकाउंट खोल सकते है लेकिन PPF अकाउंट यह सुविधा उपलध नही है. आप अपने स्पाउस के साथ जॉइंट अकाउंट नही खोल सकते है. 

NRI  PPF अकांउट नही खोल सकते है. यदि वह NRI होने पहले इंडियन नागरिक थे तब यदि उन्होंने यह अकाउंट खोला होगा तब वह आगे इस अकाउंट को कंटिन्यू कर सकते है. लेकिन विदेशी नागरिक होने के कारण वह नया PPF अकाउंट नही खोल सकते है.

HUF  यानि की  Hindu Undivided Family इस में अकाउंट नही खोल सकते है. 

PPF में अकाउंट कैसे बनाते है ?

Video Credit – Ishan LLB

क्या आपको PPF में अकाउंट खोलना चाहिए ? क्या यह स्कीम दुसरे स्कीम से बेहतर है ?

किन लोगो को पब्लिक प्रॉविडेंट फंड में अकाउंट खोलन चाहिए. यदि आप हाई टैक्स ब्रैकेट है या आपका सालना आय 10 लाख से ज्यादा है तब आपको 30 प्रतिशत से ज्यादा टैक्स भरना पड़ता होगा. तो इस परिस्थिति में  आपको PPF में अकाउंट खोलना चाहिए. 

यदि आप 10 लाख में से 1.5 लाख का निवेश पब्लिक प्रॉविडेंट फंड करते है तब सरकार 1.5 लाख को आपका इनकम नही समझेगी और आपको सिर्फ 8.5 लाख पर ही टैक्स भरना पड़ेगा . साथ ही यह रिटायरमेंट के लिए सबसे सुरक्षित स्कीम है. 

आशा करता हु की Public Provident Fund (PPF) के बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गयी होगी और मेरी मेहनत सफल हुई होगी .

आपको कुछ बताना या पूछना है तो आप कमेंट में जाओ और लिखो , जो लिखना है और बताना है . आपके सरे सवालों का जवाब में दूँगा . पका वाला प्रॉमिस .

जाते जाते इस पोस्ट को शेयर जरुर कर देना . और आगे इस वेबसाइट पर विजिट करते रहना अच्छी अच्छी और काम की जानकारी पाने के लिए .

इस पोस्ट को भी पढ़े – CA Full Form | CA कैसे बनें [2020]

PPF से जुड़े कुछ सवाल और उनके जवाब

  1. PPF का फुल फॉर्म क्या है ?

    PPF का फुल फॉर्म Public Provident Fund होता है.

  2. Public Provident Fund स्कीम क्या है ?

    पब्लिक प्रॉविडेंट फंड या PPF एक लॉन्ग टर्म इन्वेटमेंट रिटायरमेंट स्कीम है. इस स्कीम का लाभ भारत का कोई भी व्यक्ति ले सकता है. इस स्कीम में निवेश करने के लिए आपको सिर्फ न्यूनतम 500 रुपया वार्षिक लगेगा और ब्याज दर फिक्स्ड डिपाजिट से ज्यादा मिगेगा . साथ ही इस स्कीम में निवेश किये गए रुपयों पर कोई भी टैक्स चुकाना नही पड़ेगा. सारा मूलधन और ब्याज आपको परिपक्वता के बाद आपको मिलेगा .

  3. इस स्कीम में न्यूनतम और अधिकतम कितना निवेश कर सकते है ?

    इस स्कीम आप न्यूनतम 500 रुपया और अधिकतम 1.5 लाख रुपया सालाना निवेश कर सकते है . आप चाहे तो 1.5 लाख से ज्यादा का भी वार्षिक निवेश कर सकते है लेकिन उस राशी पर और उस रकम पर कमाए हुए ब्याज पर आपको टैक्स देना पड़ेगा .

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap